भाजपा जिलाध्यक्ष का पलटवार, बोले- हमनें रखा लोकतंत्र का सम्मान, विपक्ष कर रहा अपमान

पहले कम सदस्यों के निर्वाचन के बावजूद भाजपा के जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर भाजपा का प्रत्याशी बैठा। फिर ब्लॉक प्रमुख चुनाव की 11 सीट के भगवा होने के बाद सपा नेताओं ने प्रशासन की घेराबंदी शुरू की। भाजपा विधायकों और संगठन पदाधिकारियों पर सत्ता का दबाव बनाने के आरोप लगाकर चुनाव प्रभावित करने के आरोप लगाए। रविवार को

भाजपा जिलाध्यक्ष पवन शर्मा ने प्रेसवार्ता बुलाई। उन्होंने कहा कि भाजपा लोकतंत्र का सम्मान करती है। विपक्ष के नेता और कार्यकर्ता जनप्रतिनिधियों और पुलिस-प्रशासन पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर रहे हैं। सत्ता का दुरुपयोग करने के आरोप भी गलत है, क्योंकि अगर भाजपा सत्ता में होने का फायदा लेती तो ब्लाक प्रमुख की तीन सीटें पार्टी नहीं हारती। सिविल लाइंस स्थित भाजपा कार्यालय पर रविवार को पत्रकारों से बातचीत में जिलाध्यक्ष पवन शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व और विकास की नीतियों से प्रभावित होकर पंचायत चुनाव में लोगों ने पार्टी पर भरोसा जताया है। प्रदेश में भाजपा ने पंचायत चुनाव में जिला पंचायत की 75 में 65, ब्लॉक प्रमुख में 825 में 635 सीटों पर कब्जा किया। सपा केवल 98 सीटों पर सिमट कर रह गई। न्होंने कहा कि आपको याद होगा सपा सरकार में उनके गुंडों ने पर्चे तक नहीं भरने दिये थे। हमारी सरकार में लोकतंत्र का पूरा सम्मान किया गया। सभी को चुनाव लड़ने का अधिकार है। जनता ने विपक्ष के मुंह पर तमाचा मार दिया है। इस वजह से विपक्ष बौखलाया हुआ है। 2022 के विधानसभा चुनावों में हम 300 का आंकड़ा पार करेंगे।

प्रेसवार्ता में जिलाध्यक्ष आंवला वीर सिंह पाल ने कहा कि रामनगर में भाजपा का ही कार्यकर्ता जीता है। वहां कोई विरोध नहीं है। भुता में प्रदेश नेतृत्व ने सीट होल्ड कर दी। हमने पैनल बनाकर भेजा था। इस दौरान सोमपाल शर्मा, वीरपाल सिंह गंगवार, अभय चौहान, मेघनाद कठेरिया, शिवेंद्र नाथ चौबे, हरेंद्र यादव, राहुल साहू, सचिन माथुर, प्रिंस शर्मा, अंकित माहेश्वरी थे।

321

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *