परमिट से अधिक पेड़ों के कटान पर वन दरोगा निलंबित, डिप्टी रेंजर को नोटिस

अमरिया क्षेत्र में पिछले माह जारी परमिट से अधिक 26 सागौन के पेड़ कटान मामले में एक वन दरोगा को निलंबित कर दिया गया, जबकि डिप्टी रेंजर पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। बताते हैं कि यह कार्रवाई डीएम पुलकित खरे के कड़े रुख को देखते हुए की गई है।

मामला अमरिया तहसील क्षेत्र के गांव दियूरनिया का है। गांव निवासी एक किसान को खेत की मेड़ पर खड़े 20 सागौन के पेड़ काटने का परमिट जारी किया गया था, मगर कटान के दौरान 14 जून को ठेकेदार की मिलीभगत के चलते खेत की मेड़ पर खड़े 26 अन्य सागौन के पेड़ों का सफाया कर दिया गया और लकड़ी चोरी छिपे ट्रक में भरकर भेजने की तैयारी की जा रही थी। इस बीच ग्रामीणों ने इसकी सूचना डीएम को दी गई। डीएम ने मामले को गंभीरता से लेते हुए एसडीएम रामदास और सामाजिक वानिकी प्रभाग को कार्रवाई के निर्देश दिए। सूचना मिलते ही सामाजिक वानिकी प्रभाग के डिप्टी रेंजर देवेंद्र पाल सिंह के नेतृत्व में टीम बताए गए स्थान पर पहुंच गए। टीम ने रात को रास्ते में घेराबंदी सागौन की लकड़ी भरा ट्रक पकड़ लिया। एसडीएम रामदास पुलिस और राजस्व टीम भी मौके पर पहुंच गई थी। चालक को हिरासत में लेने के साथ पकड़े गए ट्रक को अमरिया थाने ले जाकर खड़ा कर दिया गया। इस मामले में डिप्टी रेंजर देवेंद्र पाल की ओर से दी गई तहरीर पर पुलिस ने खेत स्वामी लालाराम निवासी दियोरनिया, ठेकेदार फरियाद हुसैन निवासी न्यूरिया और ट्रक चालक नाजिम निवासी गांव खब्बापुर थानाक्षेत्र अमरिया के खिलाफ ग्रामीण वृक्ष संरक्षण अधिनियम के तहत रिपोर्ट दर्ज की थी। परमिट से अधिक पेड़ों का कटान होने की जानकारी पर डीएम ने तत्कालीन डीएफओ संजीव कुमार का स्पष्टीकरण तलब किया था। इधर इस मामले में फील्ड डायरेक्टर जावेद अख्तर ने वन दरोगा आकिब खान और डिप्टी रेंजर देवेंद्र पाल सिंह को दोषी पाया। उन्होंने बताया कि वन दरोगा को निलंबित कर दिया, जबकि डिप्टी रेंजर के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए कारण बताओ नोटिस जारी किया है। कार्रवाई से डीएम को भी अवगत कराया गया है।

335

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *